श्री परशुराम चालीसा / parshuram chalisa lyrics main

श्री परशुराम चालीसा

श्री परशुराम चालीसा / parshuram chalisa lyrics main


 ॥ दोहा ॥

श्रीशिव गुरु स्वामी माहेश्वर मज तु उद्धारी ।

उमा सहीत दायकु आर्शिवाद मज तु तारी ॥


बुद्धिदेवता तव जानिके दिये परशु तुमार ।

तव बल जानिये दुनिया सारी दुष्टि करे हहाकार ॥


॥ चौपाई ॥


जय परशुराम बलवान दुनिया सार।

जय रामभद्र कहे लोक करे जागर॥१॥


शिव शिष्य भार्गव तव नामा ।

रेणुका पुत्र जमतग्निसुत लामा ॥२॥


शुरविर नारायण तव अंगी ।

छटा अवतार सुहीत के संगी ॥३॥


परशु तव हस्ता दिसे सुवेसा ।

ऋषि मुद्रिका तव मन श्रेसा ॥४॥


हाथ शिवधनुष्य भार्गवा साजै ।

विप्र कुल कांधे जनेउ साजै ॥५॥


विष्णु अंश ब्रह्मकुलनंदन ।

तव गाथा पढे करे जग वंदन ॥६॥


वेद ही जानत असे चतुर ।

शिवजी के शिष्य बलशाली भगुर ॥७॥


पृथ्वि करे निक्षेत्र एक्कीस समया ।

विप्र रक्षोनी दुष्टास मारीया ॥८॥


भार्गव अवतारी तव गुन गावा ।

कर्म स्वरुपे तव चिरंजीवी पावा ॥९॥


सहस्राजुना तव तु संहारे ।

पिता वचन दिये तव तु पारे ॥१०॥


पीता होत तव अज्ञाये ।

माता शिरछेद कर तु जाये ॥११॥


जमदग्नी कहे मम पुत्र प्रियई ।

तुम जो चांहे आर्शिवाद मांगई ॥१२॥


भद्र कहते मम माता ही जगावैं ।

भ्राता सहीत मम सामोरी लावैं ॥१३॥


तव मुखमंडल दिसे ऋषिसा ।

घोर तपस्वि पठन संहीता ॥१४॥


मुद्रा गिने कुबेर ही थक जांते ।

तव धन कबि गिन ना पांते ॥१५॥


तुम उपकार ब्रह्मकुले कीह्ना ।

ब्रह्म मिलाय राज पद दीह्ना ॥१६॥


तुह्मरो शक्ती सब जग जाना ।

राक्षस कांपे तुमये भय माना ॥१७॥


तुम चिरंजीव असे जग जानु ।

जो करे तव भक्ती मधुर फल भानु ॥१८॥


बुद्धिदाता परशु हथ तुज देई ।

शिव धनुष्य माहेश्वर मिलमेेई ॥१९॥


दुष्ट संहार कर त्रिलोक जिते ।

ब्रह्मकुल के तुम भाग्यविधाते ॥२०॥


ऋषि मुनि के तुम रखवारे ।

शिव आज्ञा होत दुहीत को संहवारे ॥२१॥


सब जग आंये तुह्मरी शरना ।

तुम रच्छक काहू को डर ना ॥२२॥


परशु चमक रवि ही छुंपै ।

भार्गव नाम सुनत दुष्ट थर कांपै ॥२३॥


रेणुका पुत्र नाम जब आंवै ।

तब तव गान सहस्र जुग गांवै ॥२४॥


परशुराम नाम सुरा ।

जपत रहो ब्रह्मविरा ॥२५॥


संकट पडे तो भद्र बचांवै ।

मन से ध्यान भार्गव जो लांवै ॥२६॥


जगत के तुम तपस्वी राजा ।

ब्रह्मकुल जन्मे उपकार मज वर कीजा ॥२७॥


इच्छा धरीत तुज भक्ती जो कीवै ।

इच्छित जो तिज फल पावै ॥२८॥


भार्गव नाम सुनित होय उजियारा ।

आज्ञा पालत तव जग दिवाकरा ॥२९॥


राम सह धनुर युद्ध पुकारे ।

अवतार सप्तम समज दुवारे ॥३०॥


युद्ध कौशल्य वेदो जानता ।

कौतुक देखे रेणुका माता ॥३१॥


चारो जुग तुज कीर्तीमासा ।

सदा रहो ब्रह्मकुल के रासा ॥३२॥


तेहतीस कोट देव तुज गुन गावै ।

भार्गव नाम लेत सब दुख बिसरावै ॥३३॥


तुज नाम महीमा लागे माई ।

जनम जनम करे पुण्य कमाई ॥३४॥


म्हारे चित्त तुज दुज ना जाई ।

सारे सेई सब सुख मज पाई ॥३५॥


परशुराम नाम सुने भागे पीरा ।

भद्र नाम सुनत उठे ब्रह्मविरा ॥३६॥


जय परशुराम कहें मज विप्राईं ।

तुज कृपा करहु भार्गव नाईं ॥३७॥


पठे जो यह शत बार कोई ।

भार्गव कृपा उस सदैव होई ॥३८॥


पढित यह परशुराम चालीसा ।

सुख शांती नांदे रहे विष्णुदासा ॥३९॥


वसंतसुत पुरुषोत्तम रज असै तैरा।

तुज भक्ती मोही जुग जग सारा ॥४०॥


॥ दोहा ॥


रेणुका नंदन नारायण अंश ब्रह्मकुल रुप ।

परशुराम भार्गव रामभद्र ह्रदयी बसये भुप ॥


 चालीसा संग्रह  की यहाँ पर सूची दी गयी है , जो भी चालीसा का पाठ करना हो उस पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं। 

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके चालीसा संग्रह की लिस्ट [सूची] देखें-

0/Post a Comment/Comments

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताएं ? आपकी टिप्पणियों से हमें प्रोत्साहन मिलता है |

Stay Conneted

आप सभी सज्जनों का स्वागत है देश की चर्चित धार्मिक वेबसाइट भागवत कथानक पर | सभी लेख की जानकारी प्राप्त करने के लिए नोटिफिकेशन🔔बेल को दबाकर सब्सक्राइब जरूर कर लें | हमारे यूट्यूब चैनल से भी हमसे जुड़े |

Hot Widget

 भागवत कथा ऑनलाइन प्रशिक्षण केंद्र 

भागवत कथा सीखने के लिए अभी आवेदन करें-

भागवत कथानक के सभी भागों की क्रमशः सूची/ Bhagwat Kathanak story all part

 सभी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमसे फेसबुक ग्रुप से अभी जुड़े। 

    • आप के लिए यह विभिन्न सामग्री उपलब्ध है-

 भागवत कथा , राम कथा , गीता , पूजन संग्रह , कहानी संग्रह , दृष्टान्त संग्रह , स्तोत्र संग्रह , भजन संग्रह , धार्मिक प्रवचन , चालीसा संग्रह , kathahindi.com 

 

 

हमारे YouTube चैनल को सब्स्क्राइब करने के लिए क्लिक करें- click hear 

शिक्षाप्रद जानकारी हम अपने यूट्यूब चैनल पर भी वीडियो के माध्यम से साझा करते हैं आप हमारे यूट्यूब चैनल से भी जुड़ें नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके YouTube चैनल को सब्सक्राइब करें |