श्री राधा चालीसा- radha chalisa lyrics hindi main

 श्री राधा चालीसा

श्री राधा चालीसा- radha chalisa lyrics hindi main

॥ दोहा ॥

श्री राधे वुषभानुजा , भक्तनि प्राणाधार ।

वृन्दाविपिन विहारिणी , प्रानावौ बारम्बार ॥

जैसो तैसो रावरौ, कृष्ण प्रिय सुखधाम ।

चरण शरण निज दीजिये सुन्दर सुखद ललाम ॥

॥ चौपाई ॥

जय वृषभानु कुँवरी श्री श्यामा, कीरति नंदिनी शोभा धामा ।

नित्य बिहारिनी रस विस्तारिणी, अमित मोद मंगल दातारा ॥

राम विलासिनी रस विस्तारिणी, सहचरी सुभग यूथ मन भावनी ।

करुणा सागर हिय उमंगिनी, ललितादिक सखियन की संगिनी ॥


दिनकर कन्या कुल विहारिनी, कृष्ण प्राण प्रिय हिय हुलसावनी ।

नित्य श्याम तुमररौ गुण गावै,राधा राधा कही हरशावै ॥

मुरली में नित नाम उचारें, तुम कारण लीला वपु धारें ।

प्रेम स्वरूपिणी अति सुकुमारी, श्याम प्रिया वृषभानु दुलारी ॥


नवल किशोरी अति छवि धामा, द्दुति लधु लगै कोटि रति कामा ।

गोरांगी शशि निंदक वंदना, सुभग चपल अनियारे नयना ॥

जावक युत युग पंकज चरना, नुपुर धुनी प्रीतम मन हरना ।

संतत सहचरी सेवा करहिं, महा मोद मंगल मन भरहीं ॥


रसिकन जीवन प्राण अधारा, राधा नाम सकल सुख सारा ।

अगम अगोचर नित्य स्वरूपा, ध्यान धरत निशिदिन ब्रज भूपा ॥

उपजेउ जासु अंश गुण खानी, कोटिन उमा राम ब्रह्मिनी ।

नित्य धाम गोलोक विहारिन , जन रक्षक दुःख दोष नसावनि ॥


शिव अज मुनि सनकादिक नारद, पार न पाँई शेष शारद ।

राधा शुभ गुण रूप उजारी, निरखि प्रसन होत बनवारी ॥

ब्रज जीवन धन राधा रानी, महिमा अमित न जाय बखानी ।

प्रीतम संग दे ई गलबाँही , बिहरत नित वृन्दावन माँहि ॥


राधा कृष्ण कृष्ण कहैं राधा, एक रूप दोउ प्रीति अगाधा ।

श्री राधा मोहन मन हरनी, जन सुख दायक प्रफुलित बदनी ॥

कोटिक रूप धरे नंद नंदा, दर्श करन हित गोकुल चंदा ।

रास केलि करी तुहे रिझावें, मन करो जब अति दुःख पावें ॥


प्रफुलित होत दर्श जब पावें, विविध भांति नित विनय सुनावे ।

वृन्दारण्य विहारिनी श्यामा, नाम लेत पूरण सब कामा ॥

कोटिन यज्ञ तपस्या करहु, विविध नेम व्रतहिय में धरहु ।

तऊ न श्याम भक्तहिं अहनावें, जब लगी राधा नाम न गावें ॥


व्रिन्दाविपिन स्वामिनी राधा, लीला वपु तब अमित अगाधा ।

स्वयं कृष्ण पावै नहीं पारा, और तुम्हैं को जानन हारा ॥

श्री राधा रस प्रीति अभेदा, सादर गान करत नित वेदा ।

राधा त्यागी कृष्ण को भाजिहैं, ते सपनेहूं जग जलधि न तरिहैं ॥


कीरति हूँवारी लडिकी राधा, सुमिरत सकल मिटहिं भव बाधा ।

नाम अमंगल मूल नसावन, त्रिविध ताप हर हरी मनभावना ॥

राधा नाम परम सुखदाई, भजतहीं कृपा करहिं यदुराई ।

यशुमति नंदन पीछे फिरेहै, जी कोऊ राधा नाम सुमिरिहै ॥

रास विहारिनी श्यामा प्यारी, करहु कृपा बरसाने वारी ।

वृन्दावन है शरण तिहारी, जय जय जय वृषभानु दुलारी ॥

॥ दोहा ॥

श्री राधा सर्वेश्वरी , रसिकेश्वर धनश्याम ।

करहूँ निरंतर बास मै, श्री वृन्दावन धाम ॥


 चालीसा संग्रह  की यहाँ पर सूची दी गयी है , जो भी चालीसा का पाठ करना हो उस पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं। 

नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके चालीसा संग्रह की लिस्ट [सूची] देखें-

0/Post a Comment/Comments

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताएं ? आपकी टिप्पणियों से हमें प्रोत्साहन मिलता है |

Stay Conneted

आप सभी सज्जनों का स्वागत है देश की चर्चित धार्मिक वेबसाइट भागवत कथानक पर | सभी लेख की जानकारी प्राप्त करने के लिए नोटिफिकेशन🔔बेल को दबाकर सब्सक्राइब जरूर कर लें | हमारे यूट्यूब चैनल से भी हमसे जुड़े |

Hot Widget

 भागवत कथा ऑनलाइन प्रशिक्षण केंद्र 

भागवत कथा सीखने के लिए अभी आवेदन करें-

भागवत कथानक के सभी भागों की क्रमशः सूची/ Bhagwat Kathanak story all part

 सभी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमसे फेसबुक ग्रुप से अभी जुड़े। 

    • आप के लिए यह विभिन्न सामग्री उपलब्ध है-

 भागवत कथा , राम कथा , गीता , पूजन संग्रह , कहानी संग्रह , दृष्टान्त संग्रह , स्तोत्र संग्रह , भजन संग्रह , धार्मिक प्रवचन , चालीसा संग्रह , kathahindi.com 

 

 

हमारे YouTube चैनल को सब्स्क्राइब करने के लिए क्लिक करें- click hear 

शिक्षाप्रद जानकारी हम अपने यूट्यूब चैनल पर भी वीडियो के माध्यम से साझा करते हैं आप हमारे यूट्यूब चैनल से भी जुड़ें नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके YouTube चैनल को सब्सक्राइब करें |