पृथिवी दह्यते /prathivi dahyate shloka vairagya

 पृथिवी दह्यते /prathivi dahyate shloka vairagya

पृथिवी दह्यते /prathivi dahyate shloka vairagya


पृथिवी दह्यते यत्र मेरुश्चापि विशीर्यते।

शुष्यत्यम्भोनिधिजलं शरीरे तत्र का कथा॥१०॥

जिस विधाता की सृष्टि में पृथ्वी जलकर खाक हो जाती है, सुमेरु पर्वत भी टुकड़े-टुकड़े हो जाता है, समुद्र भी सूख जाता है वहाँ शरीर की बात ही क्या है?

वैराग्य शतक के सभी श्लोकों की लिस्ट देखें नीचे दिये लिंक पर क्लिक  करके।
 -click-Vairagya satak shloka list 

 पृथिवी दह्यते /prathivi dahyate shloka vairagya

2/Post a Comment/Comments

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताएं ? आपकी टिप्पणियों से हमें प्रोत्साहन मिलता है |

टिप्पणी पोस्ट करें

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताएं ? आपकी टिप्पणियों से हमें प्रोत्साहन मिलता है |

Stay Conneted

आप सभी सज्जनों का स्वागत है देश की चर्चित धार्मिक वेबसाइट भागवत कथानक पर | सभी लेख की जानकारी प्राप्त करने के लिए नोटिफिकेशन🔔बेल को दबाकर सब्सक्राइब जरूर कर लें | हमारे यूट्यूब चैनल से भी हमसे जुड़े |

Hot Widget

 


शिक्षाप्रद जानकारी हम अपने यूट्यूब चैनल पर भी वीडियो के माध्यम से साझा करते हैं आप हमारे यूट्यूब चैनल से भी जुड़ें�� नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके YouTube चैनल को सब्सक्राइब करें |