या व्रज में कछु देख्यो री टोना ya braj me kachhu dekho ri tona

 या व्रज में कछु देख्यो री टोना ya braj me kachhu dekho ri tona

या व्रज में कछु देख्यो री टोना। 
ले मटकी सिर चली गुजरिया, आगे मिले बाबा नंद के छौना। 
दधि को नाम बिसरि गयो प्यारी ले लेहु री कोई स्याम सलोना।। 
वन्दावन का कुज गलिन में ऑखि लगाय गयो मनमोहना। 
मीरा के प्रभु गिरिधर नागर सुन्दर स्याम सुघर रस लौना।।
या व्रज में कछु देख्यो री टोना ya braj me kachhu dekho ri tona

www.bhagwatkathanak.in // www.kathahindi.com

सर्वश्रेष्ठ भजनों की लिस्ट देखने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें

 या व्रज में कछु देख्यो री टोना ya braj me kachhu dekho ri tona

0/Post a Comment/Comments

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताएं ? आपकी टिप्पणियों से हमें प्रोत्साहन मिलता है |

Stay Conneted

आप सभी सज्जनों का स्वागत है देश की चर्चित धार्मिक वेबसाइट भागवत कथानक पर | सभी लेख की जानकारी प्राप्त करने के लिए नोटिफिकेशन🔔बेल को दबाकर सब्सक्राइब जरूर कर लें | हमारे यूट्यूब चैनल से भी हमसे जुड़े |

Hot Widget

 भागवत कथा ऑनलाइन प्रशिक्षण केंद्र 

भागवत कथा सीखने के लिए अभी आवेदन करें-

 

भागवत कथानक के सभी भागों की क्रमशः सूची/ Bhagwat Kathanak story all part

शिक्षाप्रद जानकारी हम अपने यूट्यूब चैनल पर भी वीडियो के माध्यम से साझा करते हैं आप हमारे यूट्यूब चैनल से भी जुड़ें�� नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके YouTube चैनल को सब्सक्राइब करें |