संस्कृत नीति श्लोक संग्रह- sanshkrit neeti shlok list

💬 संस्कृत नीति श्लोक संग्रह 💬 

इस वेबसाइट पर आने के लिए आप गूगल में टाइप करें - bhagwat kathanak और इस वेबसाइट में आकर धार्मिक ज्ञान प्राप्त करें।  सनातन धर्म को जानें। 


नीति संग्रह- मित्र लाभ:

  1. आयोध्या मथुरा माया श्लोकार्थ 
  2. खादन्न गच्छामि हसन्नजल्पे श्लोकार्थ
  3. लाभस्तेषां जयस्तेषां श्लोक हिंदी अर्थ सहित 
  4. वन्दे नन्दब्रजस्त्रीणां• श्लोकार्थ- 
  5. आसामहो चरणरेणुजुषामहं स्या• श्लोकार्थ 
  6. अहन्यहनि भूतानि• श्लोकार्थ-
  7. धर्मज्ञः पण्डितो ज्ञेयो• श्लोकार्थ-
  8. पठकाः पाठकाश्चैव• श्लोकार्थ-
  9. यत्र योगेश्वरः कृष्णो• श्लोकार्थ-
  10. विद्यां ददाति विनयं श्लोकार्थ-
  11. माता शत्रुः पिता वैरी श्लोकार्थ- 
  12. सुखार्थिनः कुतोविद्या श्लोकार्थ-
  13. गुरुर्ब्रह्मा ग्रुरुर्विष्णुः श्लोकार्थ- 
  14. विद्या मित्रं प्रवासेषु श्लोकार्थ- 
  15. सहसा विदधीत न क्रिया श्लोकार्थ- 
  16. चंचलं हि मनः कृष्ण श्लोकार्थ- 
  17. असंशयं महाबाहो श्लोकार्थ- 
  18. उद्यमेन हि सिध्यन्ति श्लोकार्थ- 
  19. चन्दनं शीतलं लोके श्लोकार्थ-
  20. अयं निजः परो वेति श्लोकार्थ-
  21. अष्टादश पुराणेषु श्लोकार्थ- 
  22. श्रोत्रं श्रुतेनैव न कुंडलेन श्लोकार्थ- 
  23. पुस्तकस्था तु या विद्या श्लोकार्थ- 
  24. अलसस्य कुतो विद्या श्लोकार्थ-
  25. आलस्यं हि मनुष्याणां श्लोकार्थ
  26. यथा ह्येकेन चक्रेण श्लोकार्थ-
  27. बलवानप्यशक्तोऽसौ श्लोकार्थ- 
  28. जाड्यं धियो हरति श्लोकार्थ-
  29. यां चिन्तयामि सततं श्लोकार्थ 
  30. अज्ञः सुखमाराध्यः श्लोकार्थ -
  31. प्रहस्य मणिमुद्धरेन् श्लोकार्थ-
  32. लभेत सिकतासु तैलमपि श्लोकार्थ-
  33. व्यालं बालमृणालतन्तुभिरसौ श्लोकार्थ -
  34. स्वायत्तमेकान्तगुणं विधात्रा श्लोकार्थ - 
  35. यदा किंचिज्ज्ञोऽहं द्विप इव श्लोकार्थ-
  36. कृमिकुलचितं लालाक्लिन्नं विगन्धि श्लोकार्थ- 


भागवत कथा की पीडीएफ पाने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें-

0/Post a Comment/Comments

आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताएं ? आपकी टिप्पणियों से हमें प्रोत्साहन मिलता है |